आयुर्वेदिक नुस्ख़े घरेलू उपचार

डेंगू बुखार के लक्षण और आसान घरेलू उपचार- Dengue Bukhar Ke Lakshan Aur Aasan Gharelu Upchar

डेंगू बुखार के लक्षण और आसान घरेलू उपचार: डेंगू का बुखार एक जानलेवा बीमारी के तौर पर अपने पांव जमा चुका है साल मे जब भी बरसात का मौसम आता है डेंगू के मामले पूरे देश मे पाये जाते है| डेंगू की बीमारी मे ज़रा सी लापरवाही से या गलत इलाज के कारण रोगी की जान पर बात आ सकती है |

डेंगू कैसे होता है
  1. मादा एडीज मच्छर के काटने से शरीर मे डेंगू होता है इस मच्छर के शरीर पर चीते जैसी धारीयां होती है यह मच्छर ज़्यादातर दिन मे काटते है और अगर रात मे लाइट जल रही हो तो भी यह मच्छर काट सकते है यह रोशनी मे आते है डेंगू सबसे ज़्यादा बरसात के मौसम मे ही होता है इसलिए बरसात के मौसम मे डेंगू फीवर (Dengue Fever) के मरीज ज़्यादा हो जाते है  |
  2. एडीज़ मच्छर बहुत ऊपर तक नहीं उड़ पाता इस मच्छर की उड़ान सिर्फ इंसान के घुटनो तक होती है |
  3. डेंगू मच्छर गंदी नालियो मे या और किसी गंदी जगह नहीं यह सिर्फ साफ सुथरे पानी मे ही पनपते है इसलिए शहरी इलाको मे रहने वाले लोगो को इससे ज़्यादा खतरा रहता है एडीज मच्छर के काटने पर 4-5 दिन बाद रोगी को डेंगू बुखार (Dengue Fever) के लक्षण दिखाई देते बचाव करना इलाज करने से बेहतर होता है |

डेंगू के लक्षण

  • आंखो मे अंदर को ओर दर्द होने लगता है |
  • आंखो के करीब सिर मे दर्द होना |
  • डेंगू के रोगी की मांसपेशियों और जोड़ो मे दर्द रहता है खासकर टखने और कोहनी मे दर्द होता है |
  • डेंगू के रोगी के मुह का स्वाद बदल जाता है |
  • रोगी को उल्टियाँ होती है और पेट दर्द भी रहता है इसके साथ भूख भी कम लगती है |
  • रोगी की स्किन पर लाल चकत्ते पड़ जाते है और त्वचा पर खुजली होती रहती है |
  • मरीज़ को शरीर मे बहुत थकावट महसूस होती है |

 

 डेंगू का इलाज और घरेलू नुस्खे

Dengue Treatment in Hindi

बकरी का दूध

डेंगू के इलाज मे सबसे कारगर है बकरी का दूध डेंगू फीवर (Dengue Fever) मे प्लेटलेट्स बहुत कम हो जाती है और लगातार घटती रहती है | इनको पूरा करने के लिए बकरी का दूध बहुत ही ज़्यादा उपयोगी माना जाता है यह बहुत ही आसान नुस्खा है| बकरी के दूध मे कई ऐसे गुण होते है जो सर्दी ,खांसी ,बुखार आदि को बहुत आसानी से दूर कर सकते है बकरी का दूध पचने मे भी समय नहीं लगता यह सिर्फ 20 से 25 मिनट मे हजम हो जाता है यह उपाय कम उम्र के बच्चो के लिए ठीक नहीं रहता |

पानी

डेंगू मे पानी का ज़्यादा से ज़्यादा मात्रा मे सेवन करना चाहिए इससे शरीर की प्रिक्रिया अच्छी रहती है पानी के साथ आप फलो के रस का भी सेवन करें जैसे गन्ने का रस ,गेहूं की घास का रस ,अनार का रस ,चुकंदर का रस यह सब भी उपयोगी है |

पपीते के पत्ते

पपीते के पत्तों का रस शरीर मे प्लेटलेट्स बढ़ाने मे बहुत उपयोगी है पपीते के पत्तों का रस डेंगू के किसी भी ट्रीटमेंट से अच्छा होता है इससे प्लेटलेट्स काफी तेज़ी से बढ़ती है इसका इस्तेमाल कैसे करें पपीते के ताज़े पत्ते लाये और उन्हे अच्छे से धोएँ और उन्हे मिक्सर मे डालकर उनका रस निकाल लें आप इन पत्तों को उबालकर भी इसका सेवन कर सकते है | उबालने के लिए 4-5 पपीते के पत्तों को दो ग्लास पानी मे डाल कर तेज़ आंच पर रख दें और तब तक उबालते रहे जब तक उसका पानी आधा न हो जाये उसके बाद आप उसको ठंडा करके उसका सेवन कर सकते है अच्छे परिणाम के लिए खाली पेट दिन 2-3 बार इसका सेवन करें |

मेथी

मेथी के पत्तों का उपयोग बुखार मे करना बहुत अच्छा होता है मेथी मे बुखार जल्द दूर करने की ज़बरदस्त क्षमता होती है मेथी के पत्तों का सेवन करने से बुखार और बदन दर्द दूर हो जाता है और अच्छी नींद आती है | मेथी की ताज़ी पत्तियां लें और उन्हे साफ पानी मे डालकर उबाल लें और ठंडा होने पर इसका सेवन करें आप मेथी के पाउडर को पानी मे मिलाकर भी पी सकते है या आप मेथी की सब्जी खालें और चाहे तो मेथी को चबा कर भी खा सकते है यह हर तरह से उपयोगी है |

अनार

अनार का रस भी रामबाण इलाज है यह शरीर मे खून बढ़ाने का काम करता हैं और हमारे खून मे मौजूद प्लेटलेट्स को बढ़ाने मे भी उपयोगी है जिससे डेंगू की समस्या दूर करने मे काफी मदद मिलती है | अनार के रस का सेवन पाचन क्रिया के लिए भी बहुत लाभदायक होता है रोगी को दिन मे 2 बार अनार के रस का सेवन ज़रूर करना चाहिए |

गिलोय

गिलोय एक बहुत अच्छा आयुर्वेदिक इलाज है गिलोय का सेवन करने से शरीर मे मेटाबोलिज़्म तेज़ी से बडने लगता है रोग प्रतिरोधक क्षमता भी अच्छी होती है और यह शरीर को सभी तरह के संक्रमण से बचाता है आप गिलोय के रस को एलोवेरा का रस ,अनार का रस और पपीते के पत्तों का रस इन सबको साथ मिलाकर पीएं इन सबको साथ मिलकर पीने से रामबाण इलाज होता है | इससे इतनी तेज़ी से प्लेटलेट्स बढ़ती है जितनी किसी और दावा या नुस्खे से नहीं बढ़ती |

हल्दी

हल्दी का सेवन भी है लाभकारी हल्दी हमारे शरीर को कई प्रकार के संक्रमण से बचाती है साथ ही साथ शरीर मे मौजूद विषाक्त पदार्थो को शरीर के बाहर निकालने मे मदद करती है डेंगू की बीमारी मे आप हल्दी को दूध मे मिलाकर पीएं इससे आपको काफी लाभ होगा |

गेहूं की घास

गेहूं की घास का रस डेंगू के रोगी के लिए गेहु की घास का रस लाभकारी होता है यह शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए रामबाण है और डेंगू मे हमे ऐसी चीज़ की सबसे अधिक ज़रूरत होती है जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाए | रोजाना सुबह मे गेहूं की घास का रस बनाकर पीएं इसके प्रियोग से पाचन शक्ति मजबूत होती है और लीवर की कमजोरी दूर होती है |

 

डेंगू से कैसे बचे
  1. बरसात के मौसम मे पूरे आस्तीन के कपड़े पहने अपने शरीर के सभी अंगो को ढका हुआ रखे |
  2. डेंगू का मच्छर साफ पानी मे अंडे देता है |
  3. अपने घर मे कहीं पानी जमा न होने दें कहीं अगर पानी खुला हुआ रखा है तो उसे ढक कर रखे |
  4. अगर आपके घर मे कोई डेंगू की समस्या से पीड़ित है तो ध्यान रखे के मच्छर किसी और सदस्य को ना काटे |
  5. डेंगू को फैलने से बचने के लिए पीड़ित को मच्छरदानी के अंदर सोना चाहिए |
  6. घर पर किसी कोने मे ज़्यादा समय तक पानी न भरा रहने दें |
  7. कूलर का पानी भी जल्दी जल्दी बदलते रहे |
  8. डेंगू जैसी खतरनाक बीमारी से बचने के लिए तुलसी के पत्तों का सेवन करें |
  9. तुलसी के पौधे की खुशबू के पास डेंगू के मच्छर नहीं आते इसलिए अगर हो सके तो तुलसी का पौधा घर पर लगाए |
  10. मच्छरो से बचने के लिए भी घर मे मोर्टीन का या स्प्रे का इस्तेमाल करें |

आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट डेंगू बुखार के लक्षण और आसान घरेलू उपचार अच्छी लगी हो अगर आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आई तो इसे शेयर करें और हमे कमेंट मे ज़रूर बताएं |

Leave a Comment