आयुर्वेदिक नुस्ख़े घरेलू उपचार हेल्थ और फ़िट्नेस

मलेरिया के लक्षण और आसान घरेलू उपाय – Maleria Ke Lakshan Aur Aasan Gharelu Upay

मलेरिया के लक्षण और इससे बचने का तरीका : मलेरिया एक ऐसी बीमारी है जो परजीवी रोगाणु के कारण होती है यह रोगाणु इतने छोटे होते है के इन्हे देखा भी नहीं जा सकता । यह बीमारी एनोफेलीज़ नामक मादा मच्छर के काटने की वजह से होती है जब यह मच्छर किसी व्यक्ति के काटता है तो उस व्यक्ति की खून की नली मे मलेरिया के रोगाणु फ़ैल जाते हैं । यह रोगाणु फ़ैल कर इंसान के कलेजे तक पहुँच जाते हैं और वहा से इनकी गिनती बढ़ जाती है ।

यह बीमारी मॉनसून और गर्मी के मौसम मे होती है मलेरिया के बुखार की पहचान शुरुआत मे ही हो जाये तो समय रहते इसका इलाज आसानी से किया जा सकता है वरना आगे चलकर काफी समस्या भी हो सकती है । इसलिए इसकी रोकथाम करने के लिए समय रहते इसका इलाज कराना काफी ज़रूरी है आइये हम आपको बताते है मलेरिया से बचने के आसान  तरीके और घरेलू उपाय

मलेरिया के लक्षण क्या हैं – Maleria Symptoms in Hindi

  • कपकपी होने के साथ तेज़ ठंड लगना
  • काफी पसीना आना
  • लगातार सिर दर्द होना
  • जी मचलाना और उल्टी होना
  • तेज़ बुखार हो जाना
  • शरीर मे कमजोरी महसूस होना
  • मांसपेशियों मे दर्द होना

कैसे कर सकते हैं आप मलेरिया से बचाव

  • मच्छरदानी लगाकर सोएँ और उस पर मच्छर मारने वाली दवा लगाना भी याद रखें आपकी मच्छरदानी मे कोई छेद भी न हो इस बात का खास ख्याल रखें मच्छर अंदर आ जाये तो इसका कोई फाइदा नहीं होगा ।
  • अपने घर के अंदर मच्छर मारने वाली दवा छिड़कें जिससे आपके घर के कोने मे मच्छर न हो।
  • घर के खिड़की और दरवाजे बंद रखें वरना अपने घर की खिड़कियों पर जाली लगाएँ साथ ही पंखे और ए.सी. को ऑन रखें जिससे मच्छर एक जगह पर न बैठ सके ।
  • तेज़ रंग के कपड़े न पहने हल्के रंग के ही कपड़े पहने क्यूंकी हल्के रंग के कपड़े पर यह मच्छर जल्दी नहीं बैठता ।
  • झाड़ियों वाली जगह से दूर रहिए क्यूंकी वहां मच्छर ज़्यादा होते हैं और ऐसी जगह से भी बचिए जहां कहीं पानी जमा हो ।
  • ध्यान रखें के आपके घर मे भी कहीं पानी जमा न हो क्यूंकी खुले हुए न पानी मे यह मच्छर पनपने लगते हैं ।

मलेरिया का घरेलू इलाज और आसान तरीके

Maleria Ka Gharelu Ilaj Aur Aasan Tarike in Hindi

मलेरिया एक जानलेवा बीमारी हैं अगर इसका वक्त के रहते इलाज नहीं किया जाये तो आगे चलके रोगी को काफी समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है । इसलिए आपके लिए ज़रूरी है की अगर आपके घर मे किसी व्यक्ति को मलेरिया के लक्षण दिखाई दें तो तुरंत किसी डॉक्टर को दिखाएं यह समस्या आगे चलके काफी गंभीर हो सकती है ।

चकोतरा है उपयोगी

हम जिस भी सब्जी या फल का सेवन करते हैं वह किसी न किसी तरीके से हमारे लिए लाभदायक होता है । मलेरिया के लिए सबसे प्रभावशाली घरेलू उपचार चकोतरा है रोजाना इसका नियमित रूप से सेवन करने से मलेरिया कि समस्या मे काफी राहत मिलेगी ।

मलेरिया से बचने के लिए दालचीनी का सेवन करें

इस बीमारी के उपचार के लिए दालचीनी एक बहुत ही अच्छा उपाय है इसका इस्तेमाल करने के लिए आप एक चम्मच पीसी हुई दाल चीनी मे एक चुटकी कालीमिर्च पाउडर और एक चम्मच शहद को 2 कप पानी की मात्रा मे उबाल लें । फिर इसको ठंडा होने के लिए रख दें जब यह ठंडा हो जाये तब इसको पीएं । यह मलेरिया के रोग से लड़ने मे बहुत उपयोगी माना जाता है ।

अदरक है मलेरिया का घरेलू उपचार

इस रोग मे अदरक का सेवन आपके लिए बहुत उपयोगी माना जाता है वैसे तो अदरक बहुत से रोगो के लिए फायदेमंद है । यह मलेरिया जैसी बीमारी से लड़ने मे भी उपयोगी होती है इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको एक अदरक के टुकड़े को एक कप पानी मे बारीक काट कर डाल दें और उस पानी को उबलने रख दें । जब पानी उबल जाये तो उसको ठंडा होने के लिए रख दें फिर ठंडा होने के बाद आप इसको काढे के रूप मे पीयें सकते है अगर आपको इसका स्वाद अच्छा न लगे तो आप इसमे शहद मिलकर भी पी सकते हैं । इसको दिन मे 2 से तीन बार पीए आपको जल्दी ही लाभ होगा ।

मलेरिया से बचने के लिए तुलसी है उपयोगी

यह बहुत पवित्र माने जाते हैं तुलसी के पत्ते मलेरिया की बीमारी मे भी बौट उपयोगी माने जाते है । तीन ग्राम काली मिर्च पाउडर के साथ तुलसी के 15 मततियों से 20 पत्तियों को लेकर एक पेस्ट बना लें । इस पेस्ट का उपयोग दिन मे एक बार करे अगर आपको यह स्वाद मे अच्छा नहीं लगता तो आप इसमे थोड़ा गुढ़ मिलकार भी इसका सेवन कर सकते हैं ।

संतरे का रस मलेरिया से बचने के लिए

आपके लिए संतरे का रस बहुत ही अच्छा और उपयोगी होता है भोजन के साथ आपको इसका सेवन करना चाहिए । इसमे विटामिन सी भरपूर मात्रा मे पाया जाता है और यह विटामिन सी प्रतिरक्षा प्रणाली बड़ाने के लिए काफी सहयोगी होता है । खाने के साथ संतरे के जूस का सेवन आपके बुखार को हल्का करने मे बहुत उपयोगी होता है ।

मेथी के बीज हैं मलेरिया की दवा

बुखार की वजह से अक्सर रोगी के शरीर मे कमजोरी हो जाती है मेथी के बीज से इस कमजोरी का उपचार होता है । मेथी के बीज का सेवन करने के लिए इसको रात मे पानी मे भिगोएँ और सुबह उठ कर उस पानी को पीलें । सुबह आपका पेट खाली होता है और उस समय यह पानी पीने से आपका बुखार कम हो सकता है आप इसका सेवन मलेरिया के संक्रमण को पूरी तरह से ठीक करने तक पी सकते है जब तक आपका मलेरिया ठीक न हो तब तक आप इसका सेवन कर सकते हैं ।

सरसों का तेल

मलेरिया के लिए इस तेल का उपयोग भी बहुत अच्छा माना जाता है और विशेष रूप से काली सरसों के बीज एंटीमलेरिया गतिविधि वाले होते हैं । इसका उपयोग किसी भी आहार के साथ मिलाकर नियमित रूप से कर सकते हैं । यह रोगी के शरीर को संक्रमण से बचाता है इसीलिए सारसो का उपयोग या फिर सरसों के तेल का उपयोग मलेरिया से पीड़ित व्यक्ति को ज़रूर करना चाहिए ।

नींबू के साथ चूना

इन दोनों चीजों मे कार्टेन नाम के मलेरिया के बुखार को कम करने की महतपूर्ण शक्ति होती है । थोड़ी मात्रा मे चूना लेकर उसमे एक नींबू का रस मिलाएं और इसको एक ग्लास मे घोल कर इसका सेवन करें इससे आपका बुखार हल्के हल्के कम होने लगेगा ।

आशा करता हूँ आपको यह पोस्ट मलेरिया के लक्षण और आसान घरेलू उपाय अच्छी लगी हो अगर आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद आई तो इसे शेयर करें और हमे कमेंट मे ज़रूर बताएं ।

Leave a Comment